Amazon, Flipkart को ख़तम कर सकतें हैं मोदी जी का यह प्लान ?

दोस्तों आपने कभी इस बात पर ध्यान दिया है,कि आज से लगभग 10 साल पहले आपके आस पास के कई दुकानों में बहुत अधिक भीड़ देखने को मिलते थे, बाज़ारों में एक अलग सी रौनक हुआ करता था,लेकिन आज यही दुकाने सूनी-सुनी सी नज़र आती है,आज पुरा बाज़ार फीका-फीका सा लगता है।
दोस्तों इस बात से हम सभी अनजान नहीं हैं,कि इनका मुख्य कारण ऐमज़ॉन,फ्लिपकार्ट जैसी Ecommerce कंपनी हैं।

ये कंपनी ग्राहकों को मोटे Discount दें कर अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं, और घर बैठे सामान हम तक पंहुचा देतें हैं,परिणाम स्वरुप आज लोग Offline सामान खरीदना ही नहीं चाहते,और लोग दुकान में जाते भी हैं तो सिर्फ Online और Offline के Price कि Compare कर वापस चले आते हैं।

दोस्तों ये हाल सिर्फ आपके या हमारे आस पास का ही नहीं बल्कि पुरे भारत का यही हाल हो गया है,यह Ecommerce कम्पनीयों ने अपनी पकड़ छोटे छोटे गाँव में ऐसे बना रखें हैं,कि Retail Business की हालत ख़राब हो चुकी है।

तो आइये दोस्तों आज के लेख में, मैं आप सभी को ONDC के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देने वाला हूँ।
जिसमे हम जानेंगे कि –
ONDC क्या है?
ONDC को क्यों INDIA के Ecommerce market के लिए बड़ा कदम बताया जा रहा है?
और समझेंगे के की ONDC किस हद तक Small Business को फायदा पहुंचयेगा और इसके कमियों के बारे में चर्चा करेंगे।

ONDC क्या है?
दोस्तों आप सभी कभी ना कभी Shopping Mall पर तो गए ही होंगे, वहाँ हमारे जरुरत के सभी सामान मिल जाते हैं, जिसमे अलग अलग तरह के ब्रांड और वेराइटी के सामान भी आपको मिल जायेंगे,बिल्कुल इसी मॉडल पर Ecommerce कम्पनीयां बनी हुई है, जहाँ हमें हमारे जरुरत के सभी सामान मिल जाते है, लेकिन तकलीफ तब होती है, जब हमें पात चलता है की यह सामान किसी और इकॉमर्स कंपनी में सस्ते में मिल रहा है, जैसे हमने कोई सामान Amzon पर देखा वह सामान Amzon में कुछ और प्राइस में बिक रहा है, तो flipkart में कुछ और तब हमारे लिए समस्या बढ़ जाती है, और हमें Amzon Apps को छोड़ कर Flipkart Apps को अपने मोबाइल में Install करना पड़ता है।

दोस्तों इन बड़े बड़े Ecommerce कंपनियों में सारा खेल Commissionका होता है, जो Saller जितना अधिक Commission इन कंपनियों को देता है,वह उस Saller को सबसे ऊपर रैंक कराते हैं,जिससे मुनाफा बड़े बड़े Saller को ही जाता है, और Samll Business वाले हाथ में हाथ धरे बैठे रह जाते है, इस सभी समस्याओं का हल ONDC लेकर आया है, जहाँ इन Small Business वालो को फायदा होने वाला है,
ONDC ना केवल Amazon वा flipkart को टक्कर देगा बल्कि यह Zomato और Swiggy जैसे कंपनियों को टक्कर देगा ONDC ऐसा Paltform देगा जहाँ से आप अपना मनपसंदीदा Foods भी order कर सकते हैं।

दोस्तों ONDC Ecommerce के फील्ड में All in one Apps लेकर आया है, जिसमें आप Phonepe Paytm, Googel pay, Bhim pay जैसे एप्लीकेशन से आप अपने मनपसंद चीजों को सर्च कर सकते हैं, जिससे ना केवल बड़े कंपनियों का माल बिकेगा बल्कि छोटे सेलरों का भी सामान बिक पायेगा इस तरह ONDC आपको आजादी देता हैं कि आप अपने Payment Apps के ज़रिये सभी Ecommerce Company का Access पा सकेंगे।
जिस तरह UPI Online Payment के लिए काम करता है उसी प्रकार ONDC, Ecommerce के लिए काम करेगा ONDC का मकसद Ecommerce को Democratise करना है, Market को Close Network Model से Open Network बनाना है।

भारत सरकार ONDC कि जरुरत क्यूँ पड़ी ?
भारत में मौजूदा Ecommerce कंपनियों में बहुत सारे कंपनी हैं,यहा बड़े बड़े कंपनियों को तो फायदा हो रहा हैं लेकिन छोटे छोटे Sallers को बहुत नुकसान उठाना पड़ रहा है, असल में भारत में मुख्यतः दो तरह के Ecommerce Model काम करते हैं।
1) Market Place Model
2) Inventory Model

1) Market Palce Model – इस मॉडल के अंदर अलग अलग Saller होते हैं जो Ecommerce के माध्यम से अपना माल Customer को बेचते हैं,इस मॉडल में अंदर Ecommerce कंपनी क्रेता और विक्रेता के बीच एक माध्यम का काम करती है।

2) Inventory Model -इस मॉडल के अंदर Ecommerce कंपनी खुद Menufecharer से माल खरीद कर सीधे कस्टमर को सेल कर देती है,इस मॉडल में छोटे सेलरों का कोई रोल नहीं होता।

Market Palce Model में कंपनी Commison कमाते है, जबकि Inventory Model में पुरा का पुरा Profit इन Ecommerce कंपनियों का होता है, इस लिए एक Market Palce Model में बैठे सेलर्स Inventory Model मॉडल के सामने नहीं टिक पाते है।

इस का हल पाने के लिए भारत सरकार ने Ecommerce कंपनियों के लिए रेगुलेशन भी ला चुकी है, जिसके तहत कोई भी विदेशी कंपनी भारत में Inventory Model का स्तेमाल नहीं कर सकती,लेकिन विदेशी कंपनी इसका कोई ना कोई तोड़ ढूंढ लेती है और यह वजह है इसके लिए भारत में ONDC कि जरुरत पड़ी, इससे किसी भी बड़ी कंपनियों का मनमानी नहीं चलने वाली, बल्कि सभी छोटे बड़े व्यापारियों को बराबर मौका मिलने वाला है।

दोस्तों Online Business कि एक और कमी है ,चलो मान लेते हैं किसी Business को आप Online ले जाना चाहते हैं तो आपके पास दो तरीके हो सकते हैं एक यह कि आप खुद का कोई Online Paltform तैयार कर ले और दूसरा पहले से चल रहे इन कंपनी के साथ जुड़ जाए। तो यह दोनों तरीकों में खर्च इतने हो जाते हैं, कि नुकसान Saller का ही होता हैं और इतना खर्च छोटे सेलर वहन नहीं कर पाते ऐसे में इनको Online लाने के लिए भारत सरकार ONDC को सभी के लिए FREE रखा है।

Ecommerce कंपनीयों का तीसरी कमी है, अपने Profit को बढ़ाने के लिए खुद का प्रोडक्ट मार्किट में लाना, इन कंपनियों के पास Customer का डाटा उपलब्ध है, उन्हें पता है कि कौन सा सामान किस केटेगरी में किस प्राइस पॉइंट पर अधिक बिक रहा है, फिर उस प्रोडक्ट को नये नाम से खुद ही लॉन्च कर देती है, और अपने प्रोडक्ट को टॉप पेज पर रैंक करते है जिससे इसका सेल खुद बा खुद बढ़ने लगती है

दोस्तों भारत सरकार Ecommerce कि इन बड़े प्लेयर्स कि चाल बहुत पहले ही समझ चुकि थी इस लिए ONDC को बनाने का मुख्य उदेश्य सभी बड़े छोटे प्लेयर्स के बीच समानता लाना है।

दोस्तों इतने तगड़े Mobile और Internet युग में होने के बावजूद इन छोटे व्यापारियों ने खुद को Online Market से दूर रखा नतीजा यह हुआ कि ये व्यापारी धीरे धीरे पीछाड़ते चले गए

किन्तु अब घबराने कि जरुरत नहीं एक बार पूरी तरीके से ONDC आ गया तो इन सभी SMALL BUSINESS को फायदा होगा।
साथ ही Customer को भी यह लाभ होगा कि शॉपिंग के लिए किसी एक App के साथ बंध कर रहने कि जरुरत नहीं होगी।
लोकल market से जुड़े होने के कारण डिलवरी में भी तेजी आएगी।

Leave a Comment