भारत में Dabit Card और Credit Card में RBI ला रहा है बड़ा बदलाव।

वर्तमान में आज भी कई ऐसे पुराने खयालात के लोग हैं, जो आज भी क्रेडिट कार्ड से डरते हैं,वे डरते हैं कि क्रेडिट कार्ड भी एक प्रकार का लोन ही है, वह इस लोन को चुका पाएंगे या नहीं क्या उन्हें बहुत ज्यादा इंटरेस्ट लग जाएगा, ऐसी धारणा लोगों की पहले के समय में थी।

आज की नई जनरेशन के लोग क्रेडिट कार्ड का बहुत अच्छे ढंग से प्रयोग करते हैं, और उनसे उनको बहुत लाभ भी होते हैं।

हाल ही में आरबीआई का CREDIT CARD और DEBIT CARD के लिए एक बड़ा फैसला आया है RBI ने CREDIT CARD और DEBIT CARD ग्राहकों के लिए अपने मन पसंद कार्ड NETWORK के चुनाव कि आजादी कि बात कही है।

दोस्तों ये CARD NETWORK क्या होता है, यह कैसे काम करता है RBI ऐसा फैसला क्यूँ लें रही है, इससे ग्राहक को क्या लाभ होगा इस लेख के माध्यम से इस विषय पर चर्चा करते हैं।

दोस्तों आपने डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के ऊपर RUPAY, VISA, MASTERCARD लिखा हुआ देखा ही होगा, दरअसल BANK हमें DEBIT CARD व CREDIT CARD जारी करती हैं, और उनका काम सिर्फ जारी करने तक ही सिमित है, लेकिन उसके बाद यही वह NETWORK है, जो हमें DEBIT CARD और CREDIT CARD कि सारी सुविधा प्रदान करती है, लेकिन वर्त्तमान में RBI ने कहा है, कि यह NETWORK अब ग्राहक अपने मर्ज़ी के अनुसार चुनाव कर सकेगा।

दोस्तों अब तक होता यह था कि, जब कभी आप अपने BANK में डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के लिए APPLY करते थे, तो बैंक आपको वह NETWORK का कार्ड जारी करते थे, जो BANK के पास उपलब्ध होते हैं, वो ऐसा इस लिए करते थे, क्योंकि BANK और इन NETWORK कंपनी के बीच टाइऑफ होते है, लेकिन अब RBI ने BANK को ऐसे टाइऑफ करने से माना किया है, और यह कहा है कि BANK को अपने ग्राहक को अपने मर्जी के अनुसार CARD के चुनाव का विकल्प देना होगा।

दोस्तों RBI ऐसा क्यों करना चाहती है, आइये इस विषय पर चर्चा करते है, दोस्तों दरअसल होता यह है कि हर NETWORK के CARD के अलग अलग चार्ज होते है, और उनके अलग अलग फायदे भी होते है, लेकिन BANK ग्राहक को अपने अनुसार NETWORK वाले CARD को CUSTOMER को थोप देते हैं, जिससे ग्राहक को नुकसान होता हैं, लेकिन बहुत जल्द ग्राहक के इस समस्या का हल होता नज़र आ रहा हैं,

दोस्तों यह RBI का यह निर्णय जरुरी इस लिए भी है, कि भारत में CREDIT CARD का प्रचलन में बहुत तेजी आई है, आईय इस विषय में RBI के रिपोर्ट क्या कहता है, समझते हैं।

RBI के अनुसार वर्तमान में CREDIT CARD का OUTSTANDING 2 लाख करोड़ का हैं और यह हर साल 29.7% प्रति वर्ष के अनुसार बढ़ रहा है।

हर माह लगभग 1.32 लाख करोड़ का CREDIT CARD का PAYMENT पहुँच जाता है।

अप्रैल 2023 तक 8.65 करोड़ CREDIT CARD बैंकों द्वारा जारी किये जा चुके हैं।

दोस्तों RBI की यह कदम ग्राहकों को बहुत राहत देगा अब ग्राहक कभी भी अपना CARD NETWORK बदल सकता हैं चाहे वह CARD जारी करते समय हो या बाद में कभी भी।

1 thought on “भारत में Dabit Card और Credit Card में RBI ला रहा है बड़ा बदलाव।”

Leave a Comment