ChatGPT के CEO को भारत कि छोटी सोच कहना पड़ा भारी।

भविष्य कि जंग वहीं जीतेगा जिसके पास Information अधिक होगी, दोस्तों एक समय था जब हम Information के लिए किसी पर निर्भर हुआ करते थे, उस समय यदि हमें एक Car खरीदना होता था, तो हमें किसी जानकर व्यक्ति से पूछना पड़ता था, कँही घूमने जाना हो तब भी किसी जानकर से पूछना पड़ता था, किसी व्यापार को करना है तो भी किसी जानकर से पूछना पड़ता था, और ऐसी ही किसी भी चीज किसी भी काम के बारे में जानना होता था, तो उस फील्ड के जानकर व्यक्ति से पूछना पड़ता था, क्यूंकि उस समय सुचना का आभाव था, हम सब किसी ना किसी पर निर्भर थे।

दोस्तों फिर आया technology का युग जिसने Information technology को जन्म दिया, जिससे अब किसी पर निर्भर रहने कि कोई जरुरत नहीं हैं, कहीं घूमने जाना हैं बस Google बाबा के पास जाओ और उस जगहे कि पूरी जनकारी आपके पास होगी। कोई Car खरीदना है Google बाबा से पूछ लो सैंकड़ो Review तुरंत आपके सामने होगी, तबियत थोड़ी ऊंच नीच लग रही है Google बाबा से पूछो, डॉक्टर , दवाई, जाँच, इलाज सब कुछ आपके सामने होगा, Information कितनी जरूरी है Google के आने से पाता चल गया।

 

इस information का प्रयोग हर व्यक्ति अपने अपने हिसाब से करतें हैं, लेकिन इस information को प्राप्त करने के तरीके में बदलाव आने वाला है, जि हाँ दोस्तों information प्राप्त करने के जरिये समय समय पर बदलता आया है, शुरवात में information के लिए लोग एक दूसरे पर निर्भर हुआ करते थे, फिर आए किताबों का समय फिर लोग किताबें पढ़ कर information प्राप्त किया करतें थे, और अब जमान है Website का लेकिन यूँ कहें तो Website भी पुराना trend हो चुका है, अब समय आ गया है Chat Boat का।

 

दोस्तों हाल ही में यह Chat Boat काफ़ी चर्चे में है, और आप ने भी कहीं ना कहीं इनके बारे में सुना ही होगा, दोस्तों आज के इस लेख में इस विषय पर विस्तृत चर्चा करेंगे।

 

दोस्तों इन Chat Boat में ChatGPT काफ़ी लोक प्रिय होते जा रहें हैं। दोस्तों आप इस ChatGPT से कुछ भी पूछिए यह तुरंत ही आपके सवाल का सबसे सटीक उत्तर आपके सामने रख देगा, यदि आपको आपके ऑफिस के छुट्टी के लिए Application लिखने बोलेंगे तो कुछ ही सेकंड में ऐ आपके लिए Application लिख देगा, किसी विषय पर निबंध लिखना हो तो ChatGPT से कहिए नतीजे आपके सामने होंगे। यदि आप इसे कहेँगे कि Virat kohli के जीवनी बताये तो यह पुरा बायोग्राफी आपके सामने रख देगा।

 

दोस्तों इससे पहले भी हम Website पर ऐसा करतें थे लेकिन वहाँ किसी चीज को सर्च करतें थे तो, पहले 10-20 Page खुलता, फिर उसमे से कौन सा सही कौन सा गलत जानकारी है, इन सब को समझने में बहुत समय लग जाता लेकिन CathGPT इन सब समय को बचा कर सीधे आपको सही Information तक पंहुचा देता है। और ऐसा माना जा रहा है कि, आने वाले समय में यह और भी अधिक लोगों के बीच अपना लोक प्रियता बढ़ाएगा।

 

दोस्तों लेकिन इसके बीच एक सवाल यह भी ही कि क्या ChatGPT शतप्रतिशत सही है, दोस्तों ChatGPT उसी सवाल का जवाब देता है, जो CahtGPT के पास Internet पर उपलब्ध है, यह उतने डाटा को Analys कर के आपको जवाब देता है, जितने डाटा इसके अन्दर फीड किया जाता है। मान लीजिये के ChatGPT एक माह से Update नहीं हुआ है, और आप हाल ही में हुए किसी घटना के बारे में पूछेंगे तो यह आपके उस सवाल का जवाब नहीं दे सकता।

 

दोस्तों ChatGPT कि सबसे बड़ी कमी यह है कि कोई भी देश इसमें अपने हिसाब से Information फीड कर सकता है, दोस्तों ChatGPT अमेरिका का है, इस लिए यह वैसे ही सोचता है, जैसे अमेरिका के लोग सोचते है, यह वैसे ही जवाब देता है जैसे कि अमेरिका के लोग जवाब देते है, इसके किसी चीज को देखने का नज़रिया भी अमेरिका के अनुसार है, इसलिए यह अपने हिसाब से जवाब देता है, यदि आप इससे भारत का नक्शा दिखाने को कहे तो हो सकता है कि, यह आपको गलत नक्शा दिखा दे, क्यूंकि अमेरिका POK को भारत का हिस्सा ही नहीं मानता। इस लिए वह आपको भारत का गलत नक्शा दिखाएगा, यूँ कहे तो ChatGPT अपना नज़रिया हम पर थोपता है, और यही चीज ChatGPT कि सबसे बड़ी कमी है।

 

दोस्तों अब तक इस AI (artificial intelligence) technology में तीन देशों को ही महरथ हासिल हुई है, जिसमे पहला है America, दूसरा Rusia और तीसरा Chaina.

 

दोस्तों हाल ही में Sam Altmen जिन्होंने ChatGPT को बनाया है, उसने भारत को ललकारा है, उनसे एक Conference में यह पूछा गया कि क्या भारत भी खुद का Chat Boat तैयार कर सकता है, तब उसने कह कि यह ”भारत कि क्षमता से बाहर है”, साथ ही उसने यह भी कहा है कि, भारत के पास इतना पैसा ही नहीं है कि वह इस Technology को डेवलप और मेंटेन कर सकते, दर असल ChatGPT को बनाने के लिए सैंकड़ो Million खर्च किए है और रोज़ाना ChatGPT को मेन्टेन के लिए 3 Milion Doller खर्च होता है, इस लिए Sam Altmen को लगता है कि भारत इतना कुछ मेंटेन नहीं कर सकता, और यदि कहीं से पैसा मिल भी जाये तो यहाँ के लोगों के पास इतना Mind ही नहीं है, ऐसा कहा है।

 

इन अंग्रेजो को लगता है, जैसे यही सब कुछ कर सकते है, लेकिन इन्हे इस बात को भूलना नहीं चाहिए, कि इन्होने ने ही अख़बार में कार्टून बनाया था और उसमे बैल गाड़ी में मंगल यान को ले जाते हुए दिखया था, और उससे कुछ समय बाद ही भारत ने मंगल यान को सफलता पुरुवक लॉन्च किया था, वो भी बहुत काम बजट में।

 

दोस्तों ना ही भारत में पैसे कि कमी है, और ना ही यहाँ के लोगों के कि बुद्धि में कोई कमी है इस लिए Mahindra tech के CEO (mohit josi) Sam Altmen को सीधा जवाब देते हुए कहा Challenge Accepted, अब भारत भी अपना Chat boat तैयार करने जा रहा, बहुत मज़ा आने वाला है इस खेल में देखते है कि भारत कि technology कैसे टक्कर देती है इन विदेशी technology को।

 

 

Leave a Comment