NEFT, RTGS या IMPS क्या करें, कब करें, कैसे करें?

नमस्कार दोस्तों।
दोस्तों आपने, अपने व्यापार या अपने निजी लेन देन के लिए NEFT, RTGS, और IMPS तो किया होगा। लेकिन सभी का काम Fund Transfer करना ही है, फिर भी इन्हे अलग अलग नामों से क्यों जाना जाता है।

आइये दोस्तों आज इस लेख के माध्यम से समझेंगे कि ये सब कैसे एक दूसरे से अलग है –

NEFT – National Electronic Funds Transfer, दोस्तों Neft में 2 लाख से नीचे के Amount के Transection किए जाते है, जब आप Neft करें तो ध्यान रखें, कि यह Transection आप Banking hours में ही करें आप इसे बैंक छुट्टी के दिन या बैंक बंद होने के बाद ना करें, समान्यतः यह समय सुबह 8:00 बजे से शाम के 6:30 बजे तक ही होगा, इसके बाद आपने Transection किया तो वह Transection फस जायेगा और अगले दिन वह सेटल होगा।

Neft किए हुए पैसे तुरंत खाते में नहीं जाते है, Neft हर एक घंटे में सेटल होता है,जैसे सुबह 9:00बजे से 10:00 बजे तक जितना भी Neft पोस्ट किया जायेगा वो सारे एक बैच में सेटल होगा, फिर 10:00 बजे से 11:00 बजे नया बैच तैयार होगा, और फिर वो 11:00 बजे सेटल किया जायेगा, ऐसे प्रक्रिया आगे भी चलता रहेगा। इस लिए एकदम त्वरित payment करना हो तो यह सही विकल्प नहीं होगा। रही बात चार्ज कि तो वो हर बैंक का अलग अलग होता है।

RTGS – Real Time Gross Settlement
दोस्तों Rtgs से 2 लाख से ऊपर के Amount ट्रांसफर किये जाते है, जिस समय Rtgs पोस्ट किया जाता है, उसके तुरंत बाद ही पैसे खाते में Show करने लगता है, Rtgs आपको Banking hours में ही करना चाहिए अन्यथा Transection फस जयेगा और अगले दिन Banking hours में सेटल होगा, Rtgs सुबह 8:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक ही करें।

IMPS – Immediate Payment Service
दोस्तों Imps से आप 2 लाख से नीचे के Amount के Transection कर सकते हैं, लेकिन यह Neft से बिल्कुल अलग है, इसके द्वार आप बैंक बंद हो उस समय भी Transection कर सकते हैं इसमें आप 24*7 कभी भी Transection कर सकते है।

दोस्तों Neft, Rtgs, lmps कैसे करें?

दोस्तों Neft Rtgs और lmps आप अपने बैंक में फॉर्म भरके कर सकते हैं, लेकिन आपके लिए बेहतर होगा कि आप अपने Net Banking या Mobile Banking से करें इससे आपका समय बचेगा।

Neft और Rtgs के लिए आपको Beneficiary के निम्नलिखित डिटेल चाहिए –
जिनको पैसे ट्रांसफर करना है उसका Account Number, उसका नाम, उसके बैंक का नाम और बैंक का पता , उसके बैंक का IFCS Code.

जब आप Net Banking से Rtgs और Neft करतें हैं, तो सबसे पहले आपको Beneficiary Add करना होता हैं, फिर कुछ समय बाद जब Beneficiary Add हो जाए तब आप Neft या Ntgs कर सकते हैं। Beneficiary Add होने के तुरंत बाद ही Transection लिमिट कम होता है, यह लिमिट 30 हजार से 50 हजार के बीच हो सकता है।

IMPS के लिए Beneficiary Add करने कि जरुरत नहीं आप सीधे डिटेल डाल कर Fund Transfer कर सकते हैं, lmps सिर्फ Mobile Number से भी भेजा जा सकता है उसके लिए Beneficiary का MMID Number का जरुरत पड़ता है।
MMID सात नंबर का एक यूनिक नंबर होता है, जिसे आप बैंक से या ऑनलाइन ले सकते हैं।

Leave a Comment